Apollo Hospitals
अपोलो लाइफलाइन राष्ट्रीय : 1860-500-1066
अपोइंटमेंट बुक करें
Apollo Emergency Number - 1066
Apollo Emergency Number - 1066
Joint Commission International
Mobile Navigation

उत्कृष्टता के केंद्र

आपको स्वास्थ्य सेवा में सर्वश्रेष्ठ से कम कुछ नहीं प्रदान करने के लिए सर्वोत्तम विशेषज्ञों और उपकरणों के संयोजन

कंपनी का विवरण

अपोलो हॉस्पिटल्स की स्थापना 1983 में डॉप्रताप सी रेड्डी द्वारा की गयी थी, जो भारत में स्वास्थ्य सेवा (हैल्थकेयर) के आधुनिक रचनाकार के रूप में जाने जाते हैं। देश के पहले कॉर्पोरेट अस्पताल के रूप में, अपोलो अस्पताल देशभर में प्राइवेट हैल्थकेयर की क्रांति का नेतृत्व करने में प्रशंसनीय है।

अपोलो अस्पताल एशिया में सबसे पहले एकीकृत हैल्थकेयर प्रदाता के रूप में उभरा और हैल्थकेयर के तंत्र में इसकी मजबूत उपस्थिति है, जिसमें अस्पताल, फ़ार्मेसी, प्राथमिक देखभाल और डायग्नोस्टिक क्लिनिक और कई हैल्थ मॉडल्स शामिल हैं। संस्था में कई देशों को टेलीमेडिसिन सुविधाएं, हेल्थ इंश्योरेंस सर्विसेज, ग्लोबल प्रोजेक्ट्स कंसल्टेंसी, मेडिकल कॉलेजई-लर्निंग के लिए मेडिकल विद्यालय, नर्सिंग कॉलेज और अस्पताल मानेजेमेंट और एक रिसर्च फाउंडेशन भी हैं। इसके अलावा, ‘आस्क अपोलो‘ – एक ऑनलाइन परामर्श पोर्टल और अपोलो होम हैल्थकेयर सुविधा प्रदान करते हैं।

अपोलो की सम्पदा इसकी सस्ती कीमतें, आधुनिक टेक्नोलोजी और दूरंदेशी रीसर्च और शिक्षाविदों पर ध्यान केंद्रित करना है। अपोलो अस्पताल आधुनिक तकनीक के साथ निरंतर हैल्थकेयर सुविधाएं प्रदान कराने के लिए दुनिया के शुरुआती अस्पतालों में से एक था।  संगठन ने दुनिया भर के प्रगतिशील चिकित्सा उपकरणों को तेजी से अपनाया और भारत में कई अत्याधुनिक पद्धतियों की शुरूआत का बीड़ा उठाया।  अपोलो हॉस्पिटल्स द्वारा शुरू की गई सबसे महत्वपूर्ण तकनीकी प्रगति में से एक चेन्नई में प्रोटॉन थेरेपी सेंटर है – पूरे दक्षिण पूर्व एशिया में इस तरह का पहला केंद्र, पूरे क्षेत्र में 350 करोड़ से अधिक लोगों को सेवा प्रदान करता है।

अपोलो प्रिवेंटिव हेल्थ चेक के कोंसेप्ट को शुरू करने वाला भारत में प्रथम हॉस्पिटल था। हॉस्पिटल की स्थापना 1987 से आज की तारीख तक, 20 लाख से अधिक हेल्थ चेकअप हो चुके हैं।

अपोलो अस्पताल भारत में कार्डियोलॉजी सेवाओं का सबसे बड़ा प्रदाता है। अपोलो अस्पताल ने एडवांस कार्डियक इंटरवेंशनल तकनीक की 9 MITRACLIP प्रक्रियाओं में से 6 प्रक्रियाओं के जरिये हृदय संबंधी मामलों का सबसे बड़ी संख्या में इलाज किया हैश्रेष्ठ क्लिनिकल नतीजों के साथ 85 TAVI / TAVR; और देश भर में 1,250 से अधिक MICS CABG प्रक्रियाएं।

अपनी स्थापना के बाद से, अपोलो हॉस्पिटल्स को 140 देशों से आए 15 करोड़ से अधिक लोगों के विश्वास द्वारा सम्मान दिया गया। अपोलो के प्रमुख पेशेंट सेंट्रिक कल्चर में टीएलसी (टेंडर लविंग केयर) है, जो अपने जादू से रोगियों में आशा जगाता है।

Apollohospitals

कंपनी विजन

विकास के अगले चरण के लिए अपोलो का दृष्टिकोण ‘टच ए बिलियन लाइव्स’ (करोड़ो लोगों की ज़िंदगी को स्पर्श करना) है।

Apollohospitals

मिशन का विवरण (स्टेटमेंट)

“हमारा मिशन हर व्यक्ति की पहुंच के भीतर अंतर्राष्ट्रीय मानकों की स्वास्थ्य सेवा लाना है। हम मानवता के लाभ के लिए श्रेष्ठ शिक्षा, रीसर्च और स्वास्थ्य सेवाओं की उपलब्धि और रखरखाव के लिए प्रतिबद्ध हैं ”

अपोलो हॉस्पिटल्स भारत में AI (आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस / कृत्रिम बुद्धिमत्ता) -संचालित कार्डियोवस्कुलर डिजीज रिस्क स्कोर API के लिए माइक्रोसॉफ्ट के आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस नेटवर्क के साथ पार्टनर्शिप करने वाला एकमात्र ग्रुप है। API (आरट्रीयल प्रैशर इंडेक्स) रोगियों के कम से कम 5 से 7 साल पहले सीवीडी के जोखिम की भविष्यवाणी करने में चिकित्सकों की मदद करता है। अब तक 200,000 से अधिक रोगियों की जांच की जा चुकी है।

Abott के साथ साझेदारी में अपोलो हॉस्पिटल्स ने भारत की पहली राष्ट्रीय कार्डियक रजिस्ट्री भी स्थापित की है।

अपोलो अस्पताल भारत में पहला और सबसे बड़ा ग्रुप है जिसने अमेज़ॅन एलेक्सा पर आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस द्वारा वॉयस असिस्टेंट का उपयोग करके निकटतम अस्पतालों और फार्मेसियों की खोज करने के लिए स्किल लॉन्च किया है 

एक जिम्मेदार कॉरपोरेट नागरिक के रूप में, अपोलो हॉस्पिटल्स ने व्यवसाय से परे नेतृत्व की भावना को अच्छी तरह से ग्रहण किया और भारत को स्वस्थ रखने की जिम्मेदारी को अपनाया है। यह स्वीकार करते हुए कि नॉन कम्युनिकेबल डीजीज (एनसीडी) देश के लिए सबसे बड़ा खतरा हैं, अपोलो हॉस्पिटल्स लोगों को प्रिवेंटिव हेल्थकेयर के बारे में लगातार शिक्षित कर रहे हैं जो कि स्मृद्धि की चाबी है। इसी तरह, डॉप्रताप सी रेड्डी, “बिलियन हार्ट्स बीटिंग फाउंडेशन” द्वारा भारतीयों को स्वस्थ रखने के प्रयासों के बारे में बताया गया।

अपोलो हॉस्पिटल्स ने कई सामाजिक पहलों का समर्थन किया है – उदाहरण के तौर पर बच्चों की सहायता करने के लिए SACHi (सेव अ चाइल्ड्स हार्ट इनिशिएटिव/पहल) जो कि जन्मजात हृदय रोगों के लिए पीडियाट्रिक कार्डियक केयर प्रदान करता है, SAHI (सोसाइटी टू एड दि हियरिंग इंपेयर्ड) और CURE Foundation कैंसर की देखभाल पर ध्यान केंद्रित किया। भारत के लोगों के स्वास्थ्य का परिचय देने के लिए , टोटल स्वास्थ्य फाउंडेशन, जैसा कि डॉ। रेड्डी ने  कल्पना की थी किआंध्र प्रदेश के थावनम्पल मंडल में स्वास्थ्य सेवा का एक अनोखा मॉडल पेश किया जाए। जिसका लक्ष्य बचपन से किशोरावस्था, वयस्कता और बुढ़ापे में के लिए “समग्र हेल्थकेयर” प्रदान करना हो।

एक अनूठे सम्मान में, भारत सरकार ने अपोलो के व्यापक योगदान की मान्यता में यादगार स्वरूप एक डाक टिकट जारी किया था, जो एक स्वास्थ्य संगठन के लिए पहला था। इसके अलावा, अपोलो हॉस्पिटल्स में किए गए भारत के पहले सफल लीवर ट्रांसप्लांट की 15 वीं वर्षगांठ के अवसर पर एक डाक टिकट भी जारी किया गया। हाल ही में अपोलो हॉस्पिटल्स को फिर से 20 करोड़ स्वास्थ्य परीक्षण और देश में प्रिवेंटिव हेल्थकेयर को प्रोत्साहित करने में इसके अग्रणी प्रयासों के लिए एक डाक टिकट के साथ सम्मानित किया गया।

अपोलो हॉस्पिटल्स ग्रुप के संस्थापक चेयरमैन डॉप्रताप सी रेड्डी को प्रतिष्ठित पद्म विभूषण, भारत के दूसरे सर्वोच्च नागरिक पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

तथ्य और आंकड़े – अपोलो अस्पताल

एक नजर में
अस्पताल 71
बेड की संख्या 12000
फार्मासिस्टों की संख्या 3400
प्राथमिक देखभाल क्लीनिकों की संख्या 90 से अधिक
डायगोनोस्टिक सेंटर की संख्या 150
टेलीमेडिसिन केंद्रों की संख्या 110+
चिकित्सा शिक्षा केंद्रों और रीसर्च फाउंडेशन की संख्या 15 से अधिक

संपर्क करें